रविवार, 23 फ़रवरी 2014

वाह टिप्पणियां , आह टिप्पणियां ………

 

 [image%255B2%255D.png]

पोस्टों और टिप्पणियों को सहेज़ने में मुझे विशेष आनंद आता है इसलिए समय मिलते ही मैं कभी पोस्ट लिंक्स को संजोने के बहाने तो कभी पाठकों की टिप्पणियों को यहां इस पन्ने पर टिकाने के बहाने उन्हें संभाल लिया करता हूं । पिछले दिनों पोस्टों पर आई कुछ चुनिंदा और रोचक टिप्पणियां ये रहीं देखिए

रेल बाबू की इस डागदरी वाली पोस्ट पे आत्मा जी बेचैन होकर बोले

  • देवेन्द्र पाण्डेय

    आपका यह प्रयास प्रशंसनीय है। कुछ ज्ञान बढ़ा, कुछ अगली कड़ियों में बढ़ने की उम्मीद जगी है।
    बचपन से ऐसे माहौल में रहा हूँ कि ये सब बातें कानों में पड़ी हैं मगर कभी ध्यान से न सुना न सुनने के बाद स्मरण ही रहा। बचपन से ही आयुर्वेद एक दीर्घसुत्री इलाज की तरह लगा। बीमार हुआ तो वैद्य जी बोलते.. 7 दिन के लिए भोजन बंद! अंग्रेजी डाक्टर चार टेबलेट देता और बोलता..सब खाओ! अब आप ही बताइये किसके प्रति छवि अच्छी बनेगी? दवा बनाना भी धैर्य और झंझट का काम है। एक लीटर पानी को एक छोटी कटोरी होने तक उबालते रहो..।
    ...अब आपके कारण रूचि जग जाय तो धन्य भाग।

    1. प्रवीण पाण्डेय

      आठ कटोरिया जल आयुर्वेद को बनारस की देन है, ८ भाग जल जब उबलते उबलते एक भाग हो जाये तो उसमें अद्भुत औषधीय गुण होते हैं और तेज ज्वर में काम आता है। ज्वर के समय भोजन करना है कि नहीं, इसका विस्तृत वर्णन वाग्भट्ट ने किया है। ज्वर में ऊष्मा होती है और वह पित्त भड़कने से होता है। पित्त भड़कने में भोजन करते रहेंगे तो निदान अव्यवस्थित और दीर्घकालिक हो जायेगा। रोग को जड़ से उखाड़ना है, और बिना साइड इफेक्ट के तो उपवास उचित है। साथ में यह भी बताया गया है कि निर्जल कभी न रहें, पानी पीते रहें, वह पदार्थ खायें जिसमें पित्त का उपयोग न्यूनतम हो। इतना खायें कि निर्बल न हो जायें, क्योंकि रोग ले लड़ने के लिये शक्ति चाहिये। टैबलेट प्रभाव दबा देती है, मूल में नहीं जाती है, यही अन्तर है जो तात्कालिक और दीर्घकालिक है।

    2. देवेन्द्र पाण्डेय

      हम्म..

     

     

    आगे बढे तो देखा अमित जी अपने ब्लॉग पर कबूतर फ़ोन लगाए बैठे हैं , नंबर डायल और डिस्पले करते जिन्होंने पाया उन्होंने कहा

     
    1. शिवम् मिश्रा

      बाकी बातें बाद मे .... सब से पहले तो यह बताइये आप ने भाभी जी का मोबाइल उठाया ही काहे ... अच्छा उठाया तो उठाया ... पूरी जासूसी भी कर ली ... अच्छा जासूसी की तो की ... उस का फोटो भी ले लिए ... अच्छा फोटो लिए तो लिए ... उस को पोस्ट पर भी लगा दिया ... जे बात ठीक नहीं है !!

      प्रत्‍युत्तर दें

    2. Onkar

      बिल्कुल सही कहा

       

    3. Abhilekh Dwivedi

      हाहाहा! बहुत सही बात है और कई लोग ऐसा करते भी है। अच्छा लगा पढ़ कर!


    मास्टरनी पांडे ने जैसे ही दिल्ली की सियासी उठापटक को निशाना बनाते हुए अपनी पोस्ट पर खरी खरी सुनाई , उस पर आई प्रतिक्रियाएं देख कर ही पता लग गया कि तीर सही निशानों पर लगा है ।

  •  

  • Raj Shukla

    शेफाली जी,
    शब्द नहीं हैं मेरे पास, जो आपने लिखा है बिलकुल वही मेरे अन्दर चल रहा है, बेहद सुंदर प्रस्तुति और करारा जवाब दिया है आपने उस भगौड़े और कायर केजरीवाल को जिसने सोचा की वो लोगों के लिए लड़ेगा और हम उसे लड़ने देंगे और खुलेआम आम आदमी की जीने देंगे, उसको कोई हक नहीं है हमारी रोज़मर्रा की तकलीफों को राष्ट्रिय मुद्दा बनाने का... क्या सोचा उसने की हम विरोध नहीं कारेंगे? क्यों नहीं करेंगे? जरूर करेंगे...और जबतक उसको भ्रष्टाचारी, भगौड़ा और देशद्रोही साबित नहीं कर देंगे तबतक चैन से नहीं बैठेंगे।

  •  

  • jeewan rawat

    ये एक धोखा है .
    हमको ऐसा CM नहीं चाहिए जो आरोप लगाये और भाग जाये.
    आरोप आप पर भी लगे हैं और आपने भी उनका जवाब नहीं दिया .
    आपको ५ साल सरकार चलने का मौका मिला था आप लोकसभा देखने निकल पड़े .
    क्या जनलोकपाल अगले 2 महीनो में तरीके से नही आ सकता था .?
    और भी काम थे केजरीवाल जी .
    आप मानो न मानो आप भले ही बाते आम आदमी की करते हो पर आपकी नीयत भी अच्छी नहीं है करम भी अच्छे नहीं हैं.
    आपने ईमानदारी और बेमानी का सर्टिफिकेट देने की दुकान खोल रखी है.
    आपके पास साबुत हैं तो जैल क्यों नही भिजवाते इन लोगो को.
    या ऐसे आरोप आप पर भी लग सकते हैं की आपने जो सब्सिडी के नाम पे बिजली कम्पनियों को पैसा दिया है उसमे ५०% कमीशन आपका भी है.
    आप साबित करो ये गलत है.
    आप पर से आम जनता का ही भरोसा उठ गया है. जिसके नाम की आप राजनीती करते हो.

  •  

    विवेक रस्तोगी जी अपने घर परिवार की जिम्मेदारियों को निभाने में मशगूल होते हुए भी आसपास के प्रेम कपल पर आंखों का डंडा फ़टकारते हुए जैसे ही इस पोस्ट पर नूमदार हुए,
    झट्ट से पीडी ने टीपते हुए कहा

     

  • PD

    मोरल पुलिसिंग के मैं सख्त विरोध में हूँ. जब तक भारतीय संविधान के मुताबिक उनकी हरकतें अश्लीलता के अंतर्गत नहीं आता है तब तक उन्हें सड़कों पर प्रेम करने का उतना ही अधिकार है जितना मुझे या आपको सड़कों पर दोस्तों के साथ हंसी ठठ्ठा करने का..

  •  

     

    विख्यात पत्रकार ब्लॉगर रविश कुमार NDTV प्राइम टाईम वाले आज अपने कस्बे में अरविंद केजरीवाल की सरकार के जाने के बाद के हालात और अनुभवों पर साझा की गई बातों पर प्रतिक्रिया देते हुए पाठकों ने अपने बहुत सारे अनुभव साझा किए हैं



    Anita Jha

    रवीश क्या इसके लिए हम सब कही न कही जिम्मेदार नहीं है | मुझे तो लगा मै हु और सच कहु तो ट्विटर भी इसलिए ज्वाइन किया था | पता नहीं क्यों ऐसा लग रहा था कि एक चकविहू रचा जा रहा था AAP के खिलाफ | पर हो सकता है शायद ये मेरी सोच हो कही न कही मै अपने आप को AAP का ब्लाइंड supporter मानती हु | मेरे घर में लोग एहि कहते है | पर ट्विटर पर तो लोगो का जुलुम है आप के पक्ष मै | और वो आप आप हो गया |
    अभी कुछ दिन पहले लखनऊ शताब्दी मै थी | फर्स्ट क्लास डब्बे मै | कही न कही हम इस डब्बे के लोगो को सभ्य और सुशिल मानते है | एक आदमी ने बात शुरू की एक पार्टी को लेकर सब उसी के साथ हो लिए | सोचा बोलना बेवक़ूभी है जिसका जो विचार है वो रहेगा ही क्यों अपना माथा खपाऊ | पर कुछ देर बाद नहीं रहा गया जब एक आदमी ने ये दलील दी की अरविन्द केजरीवार सोमनाथ भारती को इसलिए नहीं हटा रहे है की उसने अरिवंद का एक विडिओ बना रक्खा है और उससे उसे बल्कमैल कर रहा है | अरविन्द उसे कभी हटा ही नहीं सकता | अपने आप को रोक न सकी पूछ ही डाला आपको ये खबर कहा से मिली | बोले व्हाट्सप्प पर आया था | मेरा पास भी सुबह से शाम व्हाट्सप्प से एसी मेसेज आते है पर मै तो ऐसा नहीं मानती | अपनी बात को रखती गई दलील देती गयी | जब बोलना सुरु कर ही दिया था तो रुकना क्या | पर देखा लोग मुझे सुन रहे थे और कुछ धीरे धीरे मेरी बातो को मनाने भी लगे | मेरा स्टेशन बीच मै था | कहा अब उतरना है - देखा सबकी निगाह मेरी तरफ थी | एक बुजुर्ग से आदमी ने जो की इस दौरान बिल्कुक चुप था ने कहा - मम आप उतर रही है अच्छा लगा आपको सुनकर | एक अजीब सी संतुस्ठी मिली | हमेशा ट्रैन से चुप चाप उतर जाती थी पहली बार सबको बाय बोला और जबाब भी मिला | उस दिन से जब मौका मिलता है बोलती हु | किसी पार्टी के खिलाफ नहीं पर अपने कुछ तथयो पर |
    मै जहाँ काम करती हु उसके आज कल के प्रेसिडेंट एक बहुत ही बड़े अख़बार के मालिक है |उनकी बातो में AAP की खिलाफत बिलकुल झलकती है | बुरा नहीं लगता है क्योकि लोकतंत्र है सबको अपनी बात रखने का अधिकार है | पर बुरा तब लगता है जब वो बोलते है और लोग उनकी हा में हा मिलने के लिए कुछ भी उलूल जलूल तथेय पेश कर देते है | पिछली मीटिंग में जब सुनते सुनते नहीं रहा गया तो मैने अपने बात की शुरुआत मजाकिया तरीके से की , सर में तो आप की ब्लाइंड सुप्पोर्तेर हु !!!! अरविन्द केजरीवाल कुछ भी करता है मुझे अच्छा लगता है | एकदम गुस्से में आ गए और बोले आप जैसे लोग ही स्टेबल गवर्मेंट नहीं बनने देंगे | और फिर वही हा में हा | क्या ये स्टेबल गवर्मेंट इतना इम्पोर्टेन्ट है की इसके लिए हम अपने विचार से अलग हो जाये ? अभी सब जगह एक स्टेबल गवर्मेंट का नारा चल रहा है | और ये में अपने पर्सनल एक्सपीरियंस से कह रही हु | जिन लोगो की मै बात कर रही हु वो उच्च मधयम वर्ग या उच्च वर्ग के है | इनका असर मधयम वर पर साफ पड़ रहा है | कहते है न सौ बार बोला झूठ सच हो जाता है |
    अभी एक वोटर अवेयरनेस ड्राइव चलाया था | वोट डालने के लिए | लोग अजीब से सवाल करते थे | हम किसको वोट डाले ? आप अपनी समझ से डाले | ये शायद वो लोग थे जो भाषा और भाषण के प्रभाव में आ गए थे | moneyऔर mascle पॉवर के नहीं | अखबार पढ़े, टी वि देखिये, अपने आस पास की जानकारी रखे | पर क्या मेरा जवाव सही था ! बिलकुल नहीं | मीडिया के उस चेहरे को भी जानती हु जो मेकअप के पीछे बहुत ही घिनौना है | लोग कहते हम अपना वोट waste नहीं करना चाहते है | लोगो की नज़रो मै हारने वाली पार्टी को वोट नहीं देना चाहिए | जवाव तो देती की वोट waste नहीं होते है | हवा के साथ चलना हमेशा सही नहीं होता है | पर जवाव से खुद को संतुस्ठ नहीं कर पाती थी |
    पर सही कहु तो अरविन्द की स्ट्रेटेजी अच्छी लग रही है | हेड ऑन कोलिसिओं वाली | ईमानदार होना जितना जरुरी है उतना ही ईमानदार दिखाना | शायद वक्त के सात aap इसमे निपुण हो जायेगे | जो भी हो अपनी बात को रख कर मे खुश हु | वैसे सुबह साढ़े नौ बजे से कम्पुटुर पर हु अभी ख़तम हुआ यह लिंक मेसेज के लिए तो ठीक है पर लम्बे लेख के लिए नहीं | काफी गलती होती है जिसे सुधरे मे वक्त लगता है | अगर आप इसमे कोई सुझाव दे सके तो कृपा होगी |
    आज छुट्टी है पर पता नहीं ऐसा लगता है छुट्टी मर्दो की लिए है | महिलो को तो इस दिन डबल काम | पुरे हफ्ते का काम इस दिन पर जो छोड़ देते है | समय मिला तो ब्लॉग पर भी आउंगी | लिखते रहिये पढ़ कर अच्छा लगता है |

     

     

    जानकीपुल पर हिंदी पुस्तकों के बैस्ट सेलर बनने और न बन पाने को लेकर, इस पोस्ट में  खडी की गई बहस पर आई टिप्पणियां बडी ही कांटे की लगी



     
    1. Sharad Shrivastav

      मुझे लगता है प्रभात जी ये हमारे पूर्वजो की देन है, वो ब्राह्मण शूद्र मे फंसे रहे, स्वर्ण दलित करते रहे। आज की साहित्यिक दुनिया मे गंभीर साहित्य, पोपुलर साहित्य का अंतर आ गया। लेकिन भाव वही है। वही भेदभाव, वही छुआछूत, जैसा आपने परसों कहा की गभीर साहित्य लेखक भी हैं सीक्रेट एडमायरर पाठक साहब के । सबके सामने कबूल नहीं कर सकते, इज्ज़त घटती है। हवाई जहाज मे अंग्रेजी नॉवल पढ़ते हैं। ताकि आसपास के सहयात्री हँसे नहीं। लेखक बनने से पहले इन सभी ने खूब पढ़ा लिखा होगा, क्या काम आया वो सब। ब्राहमनवाद से तो दूर आ गए लेकिन नए किस्म के ब्राहम्ण्वाद मे फंस गए। मैं ऊंचा तू नीचा। खून वही है, जज़्बात वहीं हैं । इन्हें कोई नहीं बदल सकता शरद

      Reply

    2. satyanarayan

      इस बात पर काफ़ी चर्चे होते रहे हैं कि हमारे समाज में समकालीन स्तरीय साहित्य का पाठक वर्ग काफ़ी सिमट गया है। आज भी हिन्दी में सबसे अधिक प्रेमचन्द पढ़े जाते हैं। कामतानाथ, रवीन्द्र कालिया, मैत्रेयी पुष्पा, नासिरा शर्मा, अलका सरावगी, संजीव, शिवमूर्ति, उदय प्रकाश आदि के चर्चित उपन्यासों के पाठक वर्ग का दायरा भी काफ़ी छोटा है। हर सामाजिक-सांस्कृतिक समस्या की तरह इस समस्या के भी कई कारण हैं। किताबों की ऊँची क़ीमतें, लाइब्रेरी-सप्लाई करके अंधाधुंध मुनाफ़ा कमाने की प्रकाशकों की अन्धी हवस के चलते आम लोगों तक पुस्तकों को पहुँचाने वाले किसी प्रभावी तंत्र का अभाव, इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रभाव के कारण आम पढ़े-लिखे लोगों की सांस्कृतिक अभिरुचि में आई गिरावट आदि को इस समस्या के कुछ स्थूल कारणों के रूप में देखा जा सकता है।
      इनके अतिरिक्त कुछ बुनियादी सामाजिक ऐतिहासिक कारण भी हैं। हमारे समाज के तीव्र पूँजीवादीकरण ने एक ऐसी मध्यवर्गीय आबादी की भारी संख्या पैदा की है जो बाज़ार-संस्कृति का अन्ध-उपासक और गैर-जनतांत्रिक प्रवृत्ति का है। कला-साहित्य-संस्कृति से न तो इसका कुछ लेना-देना है और न ही आम जनता के जीवन से। व्यापार-प्रबन्धन, बचत, निवेश और मौज-मस्ती आदि की इसकी अपनी दुनिया है जो शेष समाज से एकदम कटी हुई है। एक कारण यह भी है कि तमाम भौतिक प्रगति के बावजूद, हमारे समाज के आम लोगों की आँखों में आज वे भविष्य-स्वप्न नहीं हैं जो सामाजिक जीवन को आवेगमय बनाते हैं। यह समय गतिरोध और विपर्यय का समय है। सामाजिक मुक्ति की कोई नयी परियोजना अभी जीवन में हलचल पैदा करने वाली भौतिक शक्ति नहीं बन पायी है। इतिहास के ऐसे कालखण्डों में स्तरीय जनपरक साहित्य का दायरा प्रायः काफ़ी संकुचित हो जाया करता है। लेकिन इन कारणों से जुड़ा हुआ एक और कारण है जिसे हम यहाँ विचारार्थ अपने उन सहयात्री साहित्यकारों के समक्ष प्रस्तुत करना चाहते हैं जो साहित्य में कुलीनतावाद का विरोध करते हैं।
      .........
      हम विनम्रता, चिन्ता और सरोकार के साथ साहित्यक्षेत्र के सुधी सर्जकों का ध्यान इस नंगी-कड़वी सच्चाई की ओर आकृष्ट करना चाहते हैं कि उस मेहनतकश आबादी की, जो देश की कुल आबादी के पचास प्रतिशत से भी अधिक हो चुकी है, ज़िन्दगी की जद्दोजहद समकालीन हिन्दी साहित्य की दुनिया में लगभग अनुपस्थित है। आप याद करके ऐसे कितने उपन्यास या कहानियाँ उँगली पर गिना सकते हैं जिनकी कथाभूमि कोई औद्योगिक क्षेत्र की मज़दूर बस्ती और कारख़ानों के इर्दगिर्द तैयार की गयी हो, जिनमें हर वर्ष अपनी जगह-जमीन से उजड़ने, विस्थापित होकर शहरों में आने और आधुनिक उत्पादन-तकनोलॉजी में आने वाले कारख़ानों में दिहाड़ी या ठेका मज़दूर के रूप में बारह-बारह, चौदह-चौदह घण्टे खटने वाले नये भारतीय सर्वहारा के जीवन की तफ़सीलों की प्रामाणिक ढंग से इन्दराजी की गयी हो। और इनके पीछे की कारक-प्रेरक शक्ति के रूप में काम करने वाली सामाजिक-आर्थिक संरचना की गति को अनावृत्त करने की कोशिश की गयी हो? सच्चाई यह है कि जो मज़दूर वर्ग आज संख्यात्मक दृष्टि से भी भारतीय समाज का बहुसंख्यक हिस्सा बन चुका है, उसका जीवन और परिवेश जनवादी और प्रगतिशील साहित्य की चौहद्दी में भी लगभग अनुपस्थित है। मज़दूर वर्ग और समाजवाद के प्रति रस्मी, दिखावटी या पाखण्डपूर्ण प्रतिबद्धता का भला इससे अधिक जीता-जागता प्रमाण और क्या हो सकता है?

     

     

     

    चलिए आज के लिए इतना ही , कीप ब्लॉगिंग एंड कीप टिप्पणिंग ………

    5 टिप्‍पणियां:

    1. आप से भला कौन कहाँ छिप पाया है ... जय हो महाराज |

      उत्तर देंहटाएं
      उत्तर
      1. हा हा हा अरे नहीं महाराज , बहुत बहुत दिन पर परजेंट सीरीमान कर रहे हैं परीक्षा के बाद धूनी रमाएंगे

        हटाएं
    2. वाकई अजय साब ,आप महान हैं ।

      उत्तर देंहटाएं
    3. We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
      Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
      WhatsApp +91 779-583-3215

      अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
      ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
      व्हाट्सएप +91 779-583-3215

      उत्तर देंहटाएं

    हमने तो आपकी टीपों पर एक टिप्पा धर दिया अब आपकी बारी है
    कर दिजीये इस टिप्पा के ऊपर एक लारा लप्पा

    Google+ Followers